Sunday, 12 February 2017

Conversation In the anyversary of NIPER CBI Raid !!

Parikshit Bansal shared a memory.
7 hrs ·
Exactly a year ago! CBI yet to file charge sheet even against one person. Ministry or NIPER board of governors did not remove or suspend even one person from job for corruption which caused failure of research projects at NIPER- projects approved in national interests. Not a single person removed for harming students interests. Yes, but all 5 whistleblowers are still out of job and surprisingly full of positivity and energy! We shall overcome...One day! Satyamev jayate! Jai Hind!
Satyamev jayate!
The CBI has booked nine top officials including director KK Bhutani of National Institute of Pharmaceutical Education and Research (NIPER) in a scam of…
timesofindia.indiatimes.com
Nilanjan Roy Since ministers from both UPA and NDA are involved, DoP, CVC CBI all want to put the case under the rag. But the over active "Whistle Blowers" are hot on the trail are making investigative agencies life measurable. Files in the name of all five whistle blowers are active in DoP, PMO and President office. Any day a supari killer can be activated.
Like · Reply · 1 · 6 hrs
Parikshit Bansal
Parikshit Bansal Nilanjan, all of us died the day we saw that the people whom we trusted- our respected teachers, professors, the IAS, the people whom we voted for- all joined hands to break our trust. If silencing a few voices was so simple, our jail's would be empty. Governments would not change, judges would not be able to deliver judgements and media would never carry out sting operations. Also, there would be no whistleblowers. No Malala who took a bullet in her head to fight for education for girls. Yet all exist. Fear of death never silenced the voice of truth. Voice would not be there if fear was there. So don't worry- supari or no supari- march of truth continues. Satyamev jayate!

Tuesday, 29 November 2016

Notice to CBI fro NIPER Report




नाइपर भ्रष्टाचार मामला: जांच की स्टेटस रिपोर्ट तलब, CBI को नोटिस जारी

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च के वैज्ञानिक परीक्षित बंसल की ओर से भ्रष्टाचार मामले की सीबीआई जांच की धीमी गति को लेकर दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने सीबीआई को नोटिस जारी करते हुए जांच की स्टेटस रिपोर्ट तलब की है।

याचिका में बताया गया कि उन्होंने 2012 में हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर नाइपर में शिक्षा व शोध के लिए आने वाले फंड में घोटाले की बात कहते हुए जांच की अपील की थी। हाईकोर्ट के आदेशों के बाद इस मामले में सीबीआई ने नाइपर के दो निदेशक डॉ. पी रामाराव व डॉ. केके भुटानी को आरोपी बनाते हुए जांच आरंभ की थी। इसके बाद फंड के इस्तेमाल में अनियमितताओं की बात सामने आने पर 14 जनवरी को नाइपर के उच्च अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी।

इसके साथ ही इन अधिकारियों के घर पर छापेमारी कर रिकवरी की गई थी। याची ने कहा कि इसकेबाद से ही सीबीआई की जांच धीमी है और ऐसे में हाईकोर्ट सीबीआई से जांच की स्टेटस रिपोर्ट तलब करे और सीबीआई को जांच पूरी करने के आदेश जारी करे। हाईकोर्ट ने याची पक्ष को सुनने के बाद सीबीआई को नोटिस जारी कर अगली सुनवाई पर जवाब दाखिल करने के आदेश दिए हैं।